28 C
Mumbai
August 14, 2020
Positive News
Hindi

भारत की शिक्षा प्रणाली

मैं अध्यापक रहा हूँ। और विश्वविद्यालय में मैंने पढ़ना छोड़ दिया है क्योंकि मैं अपनी अंतरात्मा के विपरीत कुछ भी नहीं कर सकता। और तुम्हारी पूरी शिक्षा प्रणाली मनुष्य की सहायता करने के लिए नहीं है, उसे पंगु बनाने के लिए है। तुम्हारी शिक्षा प्रणाली न्यस्त स्वार्थी को मजबूत करने के लिए बनी है। मैं यह करने मैं असमर्थ था। मैंने इसे करने से इनकार कर दिया।

Related posts

विनोद खन्‍ना–एक पहचान परदों के पार

Rajesh Ramdev Ram

अदालत में शपथ लेते वक्त गीता पर हाथ क्यों रखवाते हैं?

Rajesh Ramdev Ram

प्रेम एक रहस्य है, सबसे बड़ा रहस्य..

Rajesh Ramdev Ram

Leave a Comment