भविष्य की सभ्यता स्त्री के आसपास बनेगी 

बुनियादी भूल जो सारी शिक्षा और सारी सभ्यता को खाए जा रही है, वह यह है कि अब तक के जीवन का सारा निर्माण पुरुष के आसपास हुआ है, स्त्री के आसपास नहीं। अब तक की सारी सभ्यता, सारी संस्कृति, सारी शिक्षा पुरुष ने निर्मित की है, पुरुष के ढंग से निर्मित हुई है, स्त्री के ढंग से नहीं।

2 comments

  1. Very beautiful story in new generation.
    Next generation me aisa hi hona chaiye. Aaj ham sab Indian hote hue bhi west culture ko apna rahe h or kahte h na ki jab bhi sun west me jata h dub jata h to, i mean hamlog bhi ek din dubne wale hai. ager next generation me aisa nahi hota h to. Ham sab log ko is story se ek nayi soch leker nari education ko badlna hoga.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *